Erysipelas Treatment In Homeopathy – जहरबाद

Category:

Description

शरीर के किसी भाग का चमड़ा किसी तरह छिल जाने या चोट लगने की वजह से एक प्रकार का जीवाणु चमड़े में प्रवेश कर जाता है जिससे श्लैष्मिक झिल्ली में प्रदाह हो जाता है- इसी को जहरबाद कहा जाता है।

बेलाडोना 30- जहरबाद में जब गर्मी, लाई, सूजन व दर्द मौजूद हों तो इस दवा का सेवन कर लाभ उठाना चाहिये ।

हिपर सल्फर 30- इससे घाव पूर्ण रूप से पककर बह जाता है और रोगी को चैन महसूस होने लगता है ।

रसटॉक्स 30, 200– घाव में जलन, शरीर के अन्य अंगों पर लाल रंग के पानी भरे छाले, पूरे बदन में डंक मारने जैसा दर्द आदि लक्षणों में इस दवा का प्रयोग करना चाहिये ।

एकोनाइट 30- जहरबाद में जब अत्यधिक जलन हो, रक्त का रिसाव हो तथा घाव सड़ने लगे तो इस दवा का प्रयोग करना चाहिये ।

आर्सेनिक 30- जहरबाद के साथ ही तेज बुखार, बेचैनी, प्यास, काले रंग का मवाद भरा छाला और सड़ने के लक्षणों में लाभप्रद है ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Erysipelas Treatment In Homeopathy – जहरबाद”