छोटे जोड़ों में दर्द और सूजन की होम्योपैथिक दवा

0
1033

होम्योपैथी में Eosinum बहुत ही असरदार और जरुरी दवाई है। यह दवाई कैंसर और Polyarthritis के लिए बहुत ही लाभदायक दवाई है।

शरीर पर Eosinum के पड़ने वाले प्रभाव

  1. Eosinum शरीर की कोशिकाओं में अपना असर करती है, शरीर की जो कोशिकाएं कैंसर कारक रहती है यह दवाई उन कोशिकाओं को ठीक करती है।
  2. यह दवाई शरीर के छोटे-छोटे जोड़ों के लिए लाभदायक होती है, जैसे Finger Joints पर यह असर करती है। यह दवाई इन जोड़ों की सूजन और दर्द को कम करती है।

वह कौन से लक्षण है जब Eosinum लेनी चाहिए ?

  1. यदि आपको भ्रम की समस्या है, और आपका दिमाग कोई भी भ्रम बना लेता है तो यह दवाई लाभदायक है।
  2. यदि आपके हाथ, पैर के तलवों में तथा उँगलियों के आस-पास और जोड़ों में बहुत जलन होती है तो यह दवाई बहुत असरदार है।
  3. अगर आपकी हथेलियां लाल हो जाये और जीभ भी लाल हो जाये तो यह दवाई फायदेमंद है।
  4. हथेलियों में अगर सुन्नपन हो तो भी यह दवाई ली जा सकती है।
  5. यदि आपके घुटने सूज जाते है और उसमे जलन होती है तो यह दवाई ली जा सकती है, किसी भी बीमारी में अगर शरीर में जलन हो, खासतौर पर अगर कैंसर की समस्या में जलन हो शरीर में तो यह दवाई लेनी चाहिए।
  6. अगर आपको खुजली होती है शरीर के किसी हिस्से पर और उसके बाद दूसरे किसी हिस्से में भी खुजली होने लगे तो यह दवाई असरदार है।

किन किन बीमारियों में Eosinum लेनी चाहिए ?

Eosinum बहुत असरदार दवाई है कैंसर के लिए, कैंसर मरीज को यह दवाई देनी चाहिए, कई बार देखा गया है की 3rd स्टेज के मरीज का कैंसर भी ठीक हो जाता है इस दवाई से जबकि डॉक्टर ने हाथ खड़े कर दिए होते हैं। Eosinum की दो-दो बून्द दिन में तीन बार लेनी है अगर आपको कैंसर है तो।

अगर आपको Polyarthritis की समस्या है, अगर आपके जोड़ों में दर्द रहता है, आप अच्छे से चल नहीं पाते या आपकी रीढ़ की हड्डी में दर्द होती है और अगर आपको जलन होती है शरीर के किसी हिस्से या जोड़ों में तो Eosinum बहुत ही फायदेमंद दवाई है। Eosinum की दो-दो बून्द दिन में तीन बार पीनी है। इसका सेवन दो से तीन महीने तक लगातार करने पर यह समस्या जल्दी ठीक हो जाएगी।

यह दवाई खुजली की समस्या में भी लाभदायक है, आपको चाहे फंगल इन्फेक्शन के कारण खुजली हो या किसी भी अन्य कारण से खुजली हो यह दवाई बहुत ही लाभदायक है। इस समस्या में भी Eosinum की दो-दो बून्द दिन में तीन बार लेनी है।

नोट :- यह दवाई आसानी से नहीं मिलती है, किसी बड़ी होम्योपैथी दूकान पर ही यह दवाई मिल सकती है, आप WSI या SBL या Dr. Reckeweg में से किसी की भी दवाई ले सकते है।

Previous articleDr Reckeweg Alfalfa Tonic Benefits In Hindi
Next articleTinospora Cordifolia Uses In Hindi [ गिलोय होम्योपैथिक दवा के लाभ ]
जनसाधारण के लिये यह वेबसाइट बहुत फायदेमंद है, क्योंकि डॉ G.P Singh ने अपने दीर्घकालीन अनुभवों को सहज व सरल भाषा शैली में अभिव्यक्त किया है। इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए वेबसाइट निर्माता भी बधाई के पात्र हैं । अगर होमियोपैथी, घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज के सभी पोस्ट को रेगुलर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को अवश्य like करें। Like करने के लिए Facebook Like लिंक पर क्लिक करें। याद रखें जहां Allopathy हो बेअसर वहाँ Homeopathy करे असर।