Hydrocele Treatment In Homeopathy – अंडकोष वृद्धि

3
6654

 कभी-कभी एक या दोनों अण्डकोषों में पानी उतर आता है जिससे वे फूल जाते हैं और आकार में भी बड़े हो जाते हैं । उनमें लाली, सूजन, जलन आदि लक्षण भी प्रकटते हैं । इसी स्थिति को हाइड्रॉसिल यानि पानी के कारण अण्डकोष बढ़ जाना कहते हैं । यों तो चोट, बुखार, कीड़े का काटना आदि कारणों से भी अण्डकोष बढ़ सकते हैं परन्तु अधिकांशतः पानी उतरने से ही अण्डकोष बढ़ते हैं अतः इसे हाइड्रोसिल कहते हैं ।

ब्रायोनिया 30– खासकर जब रोग जन्मजात हो, अण्डकोष में चुभने जैसा दर्द महसूस हो तब इस दवा का प्रयोग लाभदायक है ।

आर्निका 30- चोट लगने के कारण रोगोत्पत्ति में इस दवा का प्रयोग करने पर अच्छा लाभ मिलता है ।

कोनायम 30- बूढ़े लोगों की बीमारी में यह दवा अधिक लाभकारी हैं।

रसटॉक्स 6, 30- जिन्हें वात-रोग की शिकायत हो अथवा वर्षा के पानी में भोगने के कारण अण्डकोष में वृद्धि हो गई हो तब यह दवा लाभदायक सिद्ध होती है । नमीपूर्ण वातावरण में रहने से रोग होने पर उपकारी है।

आर्सेनिक 6– गण्डमाला धातु वाले बच्चों को रोग होने पर इस दवा का प्रयोग लाभकारी सिठ्द्र होता है ।

एपिस मेल 30- अण्डकोषों में लाली, सूजन, जलन और डंक मारने जैसा दर्द होने की अवस्था में इस दवा का प्रयोग करना चाहिये ।

साइलीशिया 30, 200- जब रोगी ठण्ड महसूस करता हो, रोग एकादशी से लेकर पूर्णिमा या अमावस्या तक बढ़े- इन लक्षणों में दें ।

ग्रेफाइटिस 30– किसी भी प्रकार के चर्म-रोग के दब जाने के कारण अण्डकोष-वृद्धि हो जाने पर लाभप्रद है ।

पल्सेटिला 30- सूजाक के बाद अण्डकोषों में पानी भर जाये, हाथ-पैरों से दहक निकले, प्यास न लगे- इन लक्षणों में दें ।

फॉस्फोरस 30- पहले अण्डकोषों में सूजन आई हो, फिर उनकी वृद्रि हो गयी हो तो यह दवा देनी चाहिये ।

ऑरम मेट 200- दाँये अण्डकोष का बढ़ जाना, सूजन, दर्द होना- इन लक्षणों में दें । मानसिक अवसाद और जीवन से ऊब- यह लक्षण भी हों तो यह दवा अति लाभकारी है ।

स्पांजिया 30, 200- बाँये अण्डकोष का बढ़ जाना, सूजन, दर्द होनाಳ್ಗೆ । इसमें दर्द चुभने की तरह होता है और अण्डकोष लटक जाता है |

रोडोडेण्ड्रॉन 200, 1M- दोनों अण्डकोषों के फूल जाने पर उपयोगी है। इसमें अण्डकोष कड़े हो जाते हैं, उनमें खिंचाव होता है, दर्द भी रहता है जो जाँघों तक फैल जाता है ।

 

Previous articleEretomania Treatment In Homeopathy
Next articleOrchitis Treatment In Homeopathy – अंडकोष प्रदाह
जनसाधारण के लिये यह वेबसाइट बहुत फायदेमंद है, क्योंकि डॉ G.P Singh ने अपने दीर्घकालीन अनुभवों को सहज व सरल भाषा शैली में अभिव्यक्त किया है। इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए वेबसाइट निर्माता भी बधाई के पात्र हैं । अगर होमियोपैथी, घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज के सभी पोस्ट को रेगुलर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को अवश्य like करें। Like करने के लिए Facebook Like लिंक पर क्लिक करें। याद रखें जहां Allopathy हो बेअसर वहाँ Homeopathy करे असर।

3 COMMENTS

  1. नमस्कार सर, मेरी उमर 26 साल है मैंने 2 साल से जीम कर रहा था मुझे 3 महीना पहले बाएं अंडकोष में सुजन और बाएं किड्नी से लेकर अंडकोष में दर्द हुआ था जो की किड्नी और अंडकोष की सुजन ठीक हो गयी है पर अंडकोष में नसो में दर्द और सुजन है वो टच करने पर वायर की तरह लगती हैं खासी आने पर अंडकोष में दर्द शुरू हो जता हैं 10 मई को मेरा एक्स रे के.यू.बी. नोर्मल आया है आज 24 मई पेट की सोनोग्राफी में भी कुछ नही मिला!मैं अपना इलाज एक हौम्योपथी डॉ से कराया हूँ पर पूरा ठीक नहीं हुआ हैं मैं बहुत परेशान हो गया हूँ कृपया मेरी मदद करें!

  2. Sir mere daye andkos me pani hai ye lagbhag 4sal ho gaye hai koi nahi sunta isme dard nihi hota koi dawa bataiye

    • Don’t be dis hearten. Every thing is possible in this world if you try patiently. you write to us your problem as we want for facilitating in the direction of selection of medicine to be beneficial for you. For this either you try to write us in detail or try to meet the doctor at Patna. For immediate relief you may try Sulpher 1M at 7 days interval and Pulsetila 30 daily. May God bless you.

Comments are closed.