Tetanus Treatment In Homeopathy – टिटेनस

0
501

शरीर के किसी कटे हुये-छिले हुये भाग से एक प्रकार का जीवाणु शरीर में प्रवेश कर जाता है जिससे यह रोग उत्पन्न हो जाता है। इस रोग में शरीर में ऐंठन होती और पूरा बदन अकड़कर धनुष की तरह टेढ़ा हो जाता है इसलिये इस रोग को धनुष्टकार के नाम से जानते हैं ।

नक्सवोमिका 30– यह इस रोग की एक अच्छी औषधि है और रोग की किसी भी अवस्था में इसका प्रयोग किया जा सकता है।

हाइपेरिकम Q,30- किसी भी प्रकार के धनुष्टकार की किसी भी अवस्था में इसका प्रयोग लाभदायक होता है। पुराने रोगों में 1M शक्ति दें ।

एकोनाइट 3x- मौसम ठण्डा होने के कारण, वर्षा-पानी में भीगने के कारण, ठंडी हवा लगने के कारण अगर धनुष्टकार रोग का आक्रमण हो जाये तो इस दवा के प्रयोग से लाभ प्राप्त किया जा सकता है।

हायोसायमस 30- दाँती लग जाना, मुँह में फेन आने लगना, चेहरा काला पड़ जाना आदि लक्षणों में इस दवा का प्रयोग करना चाहिये ।

स्ट्रिक्निया आर्स 30- माँसपेशियों का अकड़ जाना, रह-रहकर आक्षेप, हाथ-पाँव का सुन्न होना, श्वास-कष्ट आदि लक्षणों में इस दवा का प्रयोग करना चाहिये ।

लीडम पाल 200- यदि किसी व्यक्ति को जंग लगी कोल या लोहे की वस्तु से चोट लग जाये तो उसे तुरन्त इस दवा की एक मात्रा दे देनी चाहियेमात्रा देने के बाद हाइपेरिकम 200 की भी एक मात्रा देने को कहते हैं ।

Previous articleLumbago Treatment In Homeopathy – कमर दर्द
Next articleArthritis Treatment In Homeopathy
जनसाधारण के लिये यह वेबसाइट बहुत फायदेमंद है, क्योंकि डॉ G.P Singh ने अपने दीर्घकालीन अनुभवों को सहज व सरल भाषा शैली में अभिव्यक्त किया है। इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए वेबसाइट निर्माता भी बधाई के पात्र हैं । अगर होमियोपैथी, घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज के सभी पोस्ट को रेगुलर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को अवश्य like करें। Like करने के लिए Facebook Like लिंक पर क्लिक करें। याद रखें जहां Allopathy हो बेअसर वहाँ Homeopathy करे असर।